Home Kabir ke Shabd के मनवा मां रे कह्यो-Kabir Ke Shabd-ke manvaa maan re kahyo।

के मनवा मां रे कह्यो-Kabir Ke Shabd-ke manvaa maan re kahyo।

3 second read
0
0
41

SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
के मनवा मां रे कह्यो।

सत्तनाम एक सार जगत में, भूल क्यों गयो।।

बन्द कोठड़ी बीच अंधेरा, नो दस मास रह्यो।
बाहर आन के भूल गयो, क्यूँ जर में लिपट रह्यो।।

भांति भांति के भोजन चाहिए, वस्त्र नित नयो।
घड़ी पलक को दुःख अँधियारो, यो न जाए सह्यो।।

ना तो तन मन वश में कीन्ह्यो, तृष्णा नै आन गह्यो।
काम क्रोध की मझधारा में, अब क्यूँ जाए बह्यो।।

मान-२ मत करै मान जा, लंकापति गयो।
साहिब कबीर के शब्दा तै, पापी को भी गर्भ गयो।।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Kabir ke Shabd

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…