0 second read
0
0
56
कबीर की विशेषता
। गजल । ४७
कुछ जलवा,
दिखाना हो तो ऐसा हो
धन्य
कबीर
बिना मां बाप के दुनियां में, 
आना हो तो ऐसा हो । टेक
उत्तर आसमान से एक,
नूर का गोला कमल दल पर।
वो आके बन गया बालक,
कहू
जो
सुनके
क्या ढ ग.
के
रामानन्द
बहाना हो तो ऐसा हो ।
गंगा,
को
छुड़ा कर ढोंग दुनियां,
सारे मैदान
बहस करने
भये सरमिन्दे
ज्ञान
किनारे शिष्य होने की।
स्वामी,
भुलाना हो तो ऐसा हो ।
को सत्य उपदेश देते थे।
पर ड का,
बजाना हो तो ऐसा हो ।
पण्डित,
को
मौलबी सब पास में आये।
आपी खुद,
हराना हो
निरवारो,
किया दोउ दीन चेला ।
तो ऐसा हो ।
अमर संसार में सद्गुरु,
कहना हो
हजारों बैलों भरके धान,
तो ऐसा हो ।
केशव भेंट की
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…