0 second read
0
0
32
। गजल । ४८
निश्चय धन तुम्हरो दरबार ।
जहां तनिक न न्याय विचार। टेक
रग महल में बसे मसखड़े,
पास.
मे रे
प धन साधु विरजे,
वेश्या ओढ़े
पतिव्रता
पाखण्डी.
सांच कहे जग
भय जा भवनिधि
खासा मलमल,
अज्ञानी
कहै कबीर फकीर पुकारी,
गल मोतियन की हार ।
को मिले न,
साड़ी सूखा निरख अहार।
का जग में,
आदर सन्त को कह लबार ।
परल,
को
बिबेकी ज्ञान को मूढ़ गवार !
व्यवहार ।
उल्टा
मारन धावै,
झूठन
सब
44
लाना।
सरदार।
को
पार ।
इतवार । 
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…