125

0 second read
0
0
49
भजन १४३
सन्तों निरंजन जाल पियारा। टेक
विस्तारी।
भव
न हो य उदासा ।
टाम ठाम तीरथ रुचि रोया,
ससारा ।
चौरासी बिच जीव फंसायो,
जारि बारि भस्मी कर डारे,
अवतारा ।
आवागमन रखे उर झाई,
की धारा ।
सतगुरु शब्द बिना नर चीन्हा,
पारा ।
उतार
आप

जो
तो..
सो
गहो
उर
बने
कामूद्यो
मारग
ले
शब्द
अवतारा।
माया फास फसाया जीव सम
तैने धर्म आचारा.
व्यवहारा ।
सत्य पुरुष का अमर लाक है,
द्वारा ।
जासे मिले अखण्ड मोक्ष सुख,
यह
है
प्यारा ।
काल से बचना चाह
निज होय हमारा ।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…