123

0 second read
0
0
37
भजन १४१
मेरे सैंया निकल गयो मैं न लड़ी। टेक
ना मैं बोली ना मैं चाली,
ओढ़
दस दरवाजे,
पाछे ।
काछे ।
खबोरी।
दासी ।
पटवारी ।
तिवारी।
चुनरिया
रही।
कौन-सी खिड़की खुली रही।
सात सहेली,
न जाने कछु उनसे कही।
कहै कबीर सुनो भाई सन्तों,
ऐसे व्याहता से मैं कुंवारी भली।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…