Home Anmol Kahaniya ”जो गुड़ ठीने ही मरत क्यों विष दीजे ताहि ”

”जो गुड़ ठीने ही मरत क्यों विष दीजे ताहि ”

0 second read
2
0
147

 ”जो गुड़ ठीने ही मरत क्यों विष दीजे ताहि ”

एक लालाजी ने अपने सिर को एक नाई से घुटवाया। नाई कुछ दुष्ट प्रकृति का था। लालाजी का सिर घोटने के बाद नाई ने उनके सिर पर एक चपत जमा दी। लालाजी भी बड़े चतुर थे। उन्होंने नाई को चपत मारने के दो पैसे प्रदान किये। अब नाई को चपत लगाने की आदत पड़ गई। एक दिन वह किसी पहलवान की हजामत बना रहा था, तब नाई ने उसकी खोपड़ी पर भी चपत लगा दी। पहलवान ने नाई की खूब हजामत तबियत से बनाई।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • Images

    तृष्णा

    तृष्णा एक सन्यासी जंगल में कुटी बनाकर रहता था। उसकी कुटी में एक चूहा भी रहने लगा था। साधु …
  • Istock 152536106 1024x705

    मृग के पैर में चक्की

    मृग के पैर में चतकी  रात के समय एक राजा हाथी पर बैठकर एक गाँव के पास से निकलो। उस समय गांव…
  • Pearl 88

    मोती की खोज

    मोती की खोज एक दिन दरबार में बीरबल का अपानवायु ( पाद ) निकल गया। इस पर सभी दर्बारी हँसने ल…
Load More In Anmol Kahaniya

2 Comments

  1. Zeytinburnu Nakliyeci

    September 29, 2023 at 12:00 pm

    Hi there it’s me, I am also visiting this website on a regular basis, this web page is actually
    pleasant and the viewers are in fact sharing good thoughts.

  2. Zeytinburnu Nakliyat

    October 24, 2023 at 1:49 pm

    You have made some decent points there. I checked on the internet
    for additional information about the issue and found most individuals will go along with your views on this site.

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…