Home Hindu Fastivals पुत्रदा एकादशी – हिन्दुओ के व्रत और त्योहार

पुत्रदा एकादशी – हिन्दुओ के व्रत और त्योहार

2 second read
0
0
82

पुत्रदा एकादशी 

पुराणों में ऐसा उल्लेख मिलता है कि पौष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का ब्रत और अनुष्ठान करने से भद्रावती के राजा सुकेतु को पुत्र रत की प्राप्ति हुई थी। तभी से इसका नाम पुत्रदा अर्थात पुत्र देने वाली एकादशी पड़ा। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा का विधान है। इस ब्रत के करने से सन्‍्तान की प्राप्ति होती है।
images%20 %202023 03 31T143023.985
पुत्रदा एकादशी की कथा 
प्राचीन काल में भद्रावती नामक नगरी में सुकेतु नाम के राजा राज्य करते थे। राजा तथा उनकी स्त्री शेव्या दानशील तथा धर्मात्मा थे। सम्पूर्ण राज्य, खजाना धन-धान्य से पूर्ण होने के बावजूद भी राजा संतानहीन होने के कारण अत्यन्त दुखी थे। एक बार वे दोनों राज्य भार मंत्रियों के ऊपर छोड़कर वनवासी हो गए तथा आत्माहत्या के समान कोई दूसरा पाप नहीं। इसी उधेड़बुन में वे दोनों वहां आये, जहां मुनियों का आश्रय व जलाशय था। राजा रानी मुनियों को प्रणाम कर बेठ गए। मुनियों ने योगबल से राजा के दुख का कारण जान लिया और राजा रानी को आशीर्वाद देते हुए ‘पुत्रदा एकादशी ‘ब्रत रखने को कहा। राजा रानी ने पुत्रदा एकादशी ब्रत रखकर विष्णु भगवान की पूजा की और पुत्र रत्न प्राप्त किया। 
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Hindu Fastivals

Leave a Reply

Check Also

What is Master Series Group Master & How to Use in Busy

What is Master Series Group Master & How to Use in Busy Administration > Masters &g…