Home Satkatha Ank धन का घमंड अकेला कर देता है (आनंद) -Pride of wealth makes alone (bliss)

धन का घमंड अकेला कर देता है (आनंद) -Pride of wealth makes alone (bliss)

0 second read
0
0
101
Dhan Ka Ghamnd Akela
धन का घमंड अकेला कर देता है (आनंद)
एक चूहा शहर की जेवरात की सबसे बड़ी दुकान में घुस गया। वहां उसने एक करोड़ों का हीरा निगल लिया। उसे ऐसा करते, दुकान के एक नौकर ने देख लिया, ‘लेकिन जब तक वह उसे पकड़ने के लिए दौड़ता, “तब तक चूहा भाग गया। दुकान के मालिक ने विज्ञापन देकर घोषणा करवा दी
Pride of wealth makes alone (Anand)
कि जो भी चूहे का शिकार कर हीरा लाएगा, उसे लाखों रुपए इनाम में दिए जाएंगे। विज्ञापन देख कर कई लोग दुकान के पास उस इलाके में गए जहां सैकड़ों चूहे रहा करते थे। लेकिन सारे चूहे एक जैसे ही दिख रहे थे, तो कोई. समझ नहीं पाया कि किस चूहे ने हीरा निगला।
आखिरकार एक आदमी आया और सीधे एक चूहे के पास गया और उसे पकड़कर, उसके पेट से  हीरा बाहर निकाल लिया। यह देख दुकान मालिक हैरान रह गया। उसने आदमी को इनाम दिया और पूछा, इतने सारे चूहों में, तुम्हे कैसे पता चला कि इसी चूहे ने हीरा निगला है!
आदमी ने जवाब दिया, ‘बस यही एक चूहा था, जो बाकी चूहों से अलग थलग, ऊंची जगह पर अकेला बैठा था।
****
सीख:
अमीरी के घमंड में खुद को ऊंचा समझने पर व्यक्ति अकेला रह जाता है।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Satkatha Ank

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…