Home Kabir Bhajan Mala बाब ऐसी हे गंसार विहारी है – गजल निरगुन -53

बाब ऐसी हे गंसार विहारी है – गजल निरगुन -53

0 second read
0
0
17
गजल निरगुन ८३
बाब ऐसी हे गंसार विहारी है,
यह कलि व्यवहारा ।
को अलख कहे प्रति,
तिन का नाहिनी राहत हमारा ।
सुमति सुमाव सबे,
कोई जाने हिरदय तत्त्व न बूझे।
निरजिव आगे सिरजिब,
थापे लोचन कछुक न सूझे
तजि अमरित विप काहै,
अंज वे गोठी वादु ओगा
चीरन को दिये पट सिंहासन,
साहुहि कीन्हों ओटा
कहै कबीर झुठी मिली,
माया झूठी ठगहा व्यवहारा |
तीन लोक भरपूर रह्या है,
नाहीं है पतियारा

77

आरत
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Kabir Bhajan Mala

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…