Home Uncategorized 131 भजन १५१

131 भजन १५१

3 second read
0
0
24

 भजन १५१

मन फूला-फूला फिरे जगत में कैसा नाता रे
माता कहे यह पुत्र नर,
हमारा बहिन कहे मेरा।
पेट पकरि के माता रोवै,
131 

अपना कोई नहीं भाई ।
बाग लगाओ बगीचा लगाओ,
और
इस पिंजड़े के प्राण निकल गए,
जन्म-जन्म का
तीन महीना तिरिया
लगाओ
रह गयो वाम
अकेला ।
अपना कोई नहीं भाई ।
सेवे,
केला।
छः महीना सगा भाई।
माना रोये,
कर गई
आस पराई।
अपना कोई नहीं भाई ।
पांच पच्चीसी बराती आए ले चल-चल होई
कहत कबीर सुनो भाई साधो,
यह
गत दुनिया की होई ।
अपन कोई नहीं भाई ।

Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…