0 second read
0
0
44

 मगलाचरण दोहा

कहै कबीर सुनो
बन्दो सत्य
हाड़ चुसि गाड़े अञ्जना,
जारु अहित भये मगना।
ओ ब्राह्मण,
उत्तम जन्म गवाए अपना।
कबीर के,
चरण कमल सिरनाय ।
जासु ज्ञान दिनकर निकर,
ब्रह्म तुम देत नशाय |१|
भ्रम छोड़य पथ विकट के.

निकट लखाबो राम ।
तापे गुरु को कीजिए,
कोटि को टि
विनय सहित वन्दना करो,
चरण कमल कर. जोरि ।
गुरु की महिमा कहि सके,
कहाँ ऐसी मति मोरिं। ३
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…