Home Uncategorized राग काफी ८०

राग काफी ८०

0 second read
0
0
11
राग काफी ८०
आई गवनवा की सार,
उमरि अबहीं मोहि बारी। टेक
साज समाज पिया ले आये,
और कहरिया चारी
बलमा बेददी अचरा पकरि के,
जो रै गठरिया हमारी ।
सखि सब गावत गारि,
विधि गति बाम कछु समझि परत न
बैरी भई महतारी ।
रोय-२ अंखिया मोरी पोछत,
घरवा से देत निकारी।
भई सबको हम भारी ।
गौना कराय पिया ले जाय,
इत उत बाट निहारी।
छूटत गांव नगर से नाता,
छूटे महल अटारी ।
कर्म गति टारे न टारी ।
नदिया किनारे बलम मोर सखियां,
दिन्ह घूघट पट टारी ।
थरथरात तन कांपन लागे,
काहु न देख हमारी ।
पिया लै आए गोहारी ।

Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…