Home Bio-Graphy “मैरिलिन मुनरो: एक जीवन गाथा” (Marilyn Monroe: Ek Jeevan Gatha)

“मैरिलिन मुनरो: एक जीवन गाथा” (Marilyn Monroe: Ek Jeevan Gatha)

0 second read
0
0
40

मर्लिन मुनरो, जिनका असली नाम नोर्मा जीन मोर्टेंसन था, का जन्म 1 जून 1926 को लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया में हुआ था। उनके पिता का नाम अज्ञात था, और उनकी मां, ग्लेडिस पर्ल बेकर, मानसिक रूप से अस्थिर थीं, जिससे नोर्मा का बचपन बहुत ही अस्थिर और कठिन परिस्थितियों में बीता। उन्हें कई बार अनाथालय और पालक परिवारों के बीच स्थानांतरित किया गया।

16 साल की उम्र में, नोर्मा जीन ने जेम्स डोहर्टी से शादी की, जो मर्चेंट मरीन में काम करते थे। उनके पति के युद्ध में चले जाने के बाद, नोर्मा ने एक फैक्ट्री में काम करना शुरू किया, जहाँ उनकी तस्वीरें ली गईं और एक मॉडलिंग एजेंसी को भेजी गईं। यह शुरुआत थी नोर्मा जीन के मॉडलिंग करियर की, जिससे उन्हें जल्दी ही पहचान मिली। उन्होंने गोरा बाल रंगवाया और नाम बदलकर मर्लिन मुनरो रख लिया।

647af7807ffdaca2db134be75ca070e4

मर्लिन मुनरो ने 1946 में 20th सेंचुरी फॉक्स के साथ एक फिल्म कॉन्ट्रैक्ट साइन किया। शुरुआती सालों में उन्होंने कुछ छोटी भूमिकाएं निभाईं, लेकिन 1950 के दशक की शुरुआत में उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें “ऑल अबाउट ईव” और “द अस्फाल्ट जंगल” जैसी फिल्मों में महत्वपूर्ण भूमिकाएँ मिलीं।

1953 में, मर्लिन ने “नायग्रा”, “जेंटलमेन प्रेफर ब्लोंड्स” और “हाउ टू मैरी अ मिलियनेयर” जैसी फिल्मों में अभिनय किया, जिन्होंने उन्हें एक प्रमुख हॉलीवुड स्टार बना दिया। उनकी सुंदरता, करिश्मा, और अदाकारी ने उन्हें एक सेक्स सिंबल और सांस्कृतिक आइकन बना दिया। “द सेवन इयर इच” (1955) में उनकी सफेद ड्रेस उड़ाने वाली प्रसिद्ध सीन आज भी पॉप कल्चर का हिस्सा है।

मर्लिन का व्यक्तिगत जीवन अक्सर विवादों और कठिनाइयों से भरा रहा। उनकी तीन शादियाँ विफल रहीं: पहली जेम्स डोहर्टी से, दूसरी प्रसिद्ध बेसबॉल खिलाड़ी जो डिमैगियो से, और तीसरी नाटककार आर्थर मिलर से। उनके मानसिक स्वास्थ्य और भावनात्मक स्थिरता के मुद्दों के कारण उन्होंने कई बार चिकित्सा सहायता ली।

1960 के दशक की शुरुआत में, मर्लिन की स्वास्थ्य समस्याएँ और व्यक्तिगत संघर्ष बढ़ते गए। उन्होंने “लेट्स मेक लव” और “द मिसफिट्स” जैसी फिल्मों में अभिनय किया, लेकिन उनके जीवन की परेशानियों ने उनके करियर पर गहरा असर डाला। 5 अगस्त 1962 को, 36 वर्ष की आयु में, मर्लिन मुनरो की मृत्यु लॉस एंजिल्स स्थित उनके घर में हुई। उनकी मृत्यु का आधिकारिक कारण ओवरडोज़ बताया गया, लेकिन आज तक इसे लेकर कई साजिश सिद्धांत और विवाद बने हुए हैं।

मर्लिन मुनरो की अद्वितीय सुंदरता, आकर्षक व्यक्तित्व, और संवेदनशील अभिनय ने उन्हें हॉलीवुड की सबसे प्रसिद्ध और यादगार अभिनेत्री बना दिया। उनकी फिल्मों, तस्वीरों और जीवन की कहानियाँ आज भी लोगों को प्रेरित करती हैं और वे पॉप संस्कृति की आइकन बनी हुई हैं। मर्लिन मुनरो की जीवन यात्रा संघर्ष, सफलता और त्रासदी का मिश्रण थी, जिसने उन्हें एक अमर हस्ती बना दिया।

मर्लिन मुनरो का जीवन हमें यह सिखाता है कि ग्लैमर और प्रसिद्धि के पीछे कई बार संघर्ष और दर्द छुपे होते हैं। उनकी कहानी एक प्रेरणा है कि कैसे विपरीत परिस्थितियों में भी इंसान अपनी पहचान बना सकता है और दुनिया पर अपनी छाप छोड़ सकता है।

Load More Related Articles
Load More By Niti Aggarwal
Load More In Bio-Graphy

Leave a Reply

Check Also

“एल्विस प्रेस्ली: एक जीवन कहानी” (Elvis Presley: Ek Jeevan Kahani)

एलविस आरोन प्रेस्ली का जन्म 8 जनवरी 1935 को मिसिसिपी के टूपेलो में हुआ था। उनके माता-पिता …