Home Hindu Fastivals षटतिला एकादशी की कथा: धार्मिक महत्व और पारम्परिक कथानक -Story of Shattila Ekadashi

षटतिला एकादशी की कथा: धार्मिक महत्व और पारम्परिक कथानक -Story of Shattila Ekadashi

4 second read
0
0
254
Shuttila ekadashi ki katha

षटतिला एकादशी की कथा

Story of Shattila Ekadashi – प्राचीन काल में वाराणसी में एक गरीब अहीर रहता था। दीनता से काहिल वह बेचारा कभी-कभी भूखा ही बच्चों सहित आकाश में तारे गिनता रहता। उसकी जिंदगी बसर करने का सहारा केवल जंगल की लकड़ी थी, वह भी जब न बिकती तो फाके मारकर रह जाता। एक दिन वह अहीर किसी साहूकार के घर लकड़ी पहुंचाने गया। वहां जाकर देखता है कि किसी उत्सव की तैयारी हो रही है। जानने की इच्छा होने से वह साहूकार से पूछ बैठा-बाबूजी यह किस चीज की तैयारी हो रही है?
images%20(8)
तब सेठजी बोले-यह षटतिला एकादशी ब्रत की तैयारी की जा रही है। इससे घोर पाप, रोग, हत्या आदि भवबंधनों से छुटकारा तथा धन, पूत्र की प्राप्ति होती है। यह सुनकर अहीर घर जाकर उस दिन के पैसे का सामान खरीद कर लाया और एकादशी का विधिवत ब्रत रखा। परिणामस्वरूप वह कंगाल से सम्मानित किया जाने लगा।
  • Kumar vishwas 1

    Tumhare khawab bhi tum jaise shaatir nikle – Kumar Vishwas

    Kumar Vishwas – Khawab itne to dagabaaz n the mere kabhi (कुमार विश्वास – ख़्वाब इतने तो दग…
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Hindu Fastivals

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…