Home Hindu Fastivals गणेश जी की कथा – हिन्दुओ के व्रत और त्योहार

गणेश जी की कथा – हिन्दुओ के व्रत और त्योहार

2 second read
1
0
155

गणेश जी की कथा 

images%20(92)
एक बार विनायक जी महाराज चुटकी में चावल कुलिया में दूध लिये फिर रहे थे कोई मेरी खीर बना दो-कोई मेरी खीर बना दो। लेकिन कोई नहीं बना रहा था। इतने से दूध ओर थोड़े से चावल कि भला कोई केसे बनाता! एक बुढ़िया बोली, ला बेटा मैं बना दूँ तेरी खीर! बुढ़िया बहार जाने लगी तो बोले कहां जा रही है, बेटा बर्तन माँग कर लाऊँ। बोले देख तेरे घर में, अंदर देखे दूध का टोकना भरा है, चावल की परात भरी है, चूल्हा जला के खीर बनाई, खीर निकलने लगी बहू ने कटोरा भर के दरवाजे के पीछे विनायक बाबा का छींटा लगा के खा ली, जब सारी खीर बन गई बुढ़िया बोली आ बेटा जीम ले, मैंने तो खा ली। बेटा तूने खीर कब खाई? जब तेरी बहू ने खाई! बुढ़िया बोली-तूने खीर झूठी कर ली। हाँजी, खीर निकल रही थी मैंने कटोरा भर के विनायक का छींटा लगाकर खा ली। विनायक से बुढ़िया बोली अब क्या करूँ। गणेश जी बोला बुढ़िया माई तुझसे जितनी खाई जाए खा, बाकी खीर बांट दे। बुढ़िया खीर बॉटने लगी तो दुनिया चर्चा करने लगी कि कल तो बुढ़िया भूखी मरती थी ओर आज खीर बांट रही है। झोंपडी को लात मारी महल बन गया, खूब धनदौलत भर गई, जैसे विनायक महाराज ने बुढ़िया को दिया ऐसे सब किसी को देना। 
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Hindu Fastivals

One Comment

  1. Zeytinburnu Nakliye

    September 12, 2023 at 5:35 pm

    Hi, of course this piece of writing is in fact pleasant and I have learned
    lot of things from it regarding blogging. thanks.

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…