Home Uncategorized “बड़े भाई का प्रेम”!

“बड़े भाई का प्रेम”!

6 second read
0
0
31

“बड़े भाई का प्रेम”! 

एक कारीगर को अपने व्यवसाय में लम्बा घाटा आ गया था। उसके दो छोटे-छोटे बच्चे और एक स्त्री थी। घाटा आने के कारण उसने अपनी स्त्री को अनाथालय में भेज. दिया और बच्चों को अपने पास रखकर दिन व्यतीत करने लगा। : फ 
कुछ समय बाद उसका भी स्वर्गवास हो गया। ऐसी स्थिति में दोनों बच्चों ने अपनी माँ के पास जाने की सोची। , 
एक दिन वे दोनों घर से चल दिये। रास्ते में उन्हें एक बैलगाड़ी मिली। गाड़ीवान ने एक को गाड़ी में बैठने को कहा। । क्‍ 
बड़े भाई ने छोटे भाई को गाड़ी में बैठा दिया और स्वयं पैदल गाड़ी के पीछे चलता रहा । पैसा पास न होने के कारण वह भूखा-प्यासा गाड़ी के पीछे चला जा रहा था। मेरा भाई भूखा है यह कहकर रास्ते में चलते राहगीरों से भीख माँग | कर छोटे भाई को खिला देता था। 
जाड़े का मौसम होने के कारण ठंड भी उन्हें सता रही . थी। छोटे भाई ने कहा–अब तुम गाड़ी में बैठ जाओ और मैं पैदल चलूँगा। | ‘ ( 
बड़ा भाई बोला–पिता श्री ने तुम्हारी देख-भाल करने ‘ को मुझ से कहा था। यदि मैं अपना कर्त्तव्य पूरा नहीं करूँगा ‘ तो माताजी के सामने और आखिर में ईश्वर के आगे मैं क्‍या , उत्तर दूँगा? बड़े भाई की बात सुनकर गाड़ी वान ने उसे भी गाड़ी में बैठा लिया। इस प्रकार वे दोनों अपनी माता के पास सकुशल । पहुँच गये। माँ अपने दोनों बेटों को देखकर बड़ी प्रसन्न हुई | और उन्हें अपनी छाती से लिपटा लिया। 
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…