Home Uncategorized कबीर भजन १६४

कबीर भजन १६४

3 second read
0
0
34
कबीर भजन १६४ 
बाल्मीकि तुलसी से कह गए,
ऐसा कलियुग आयेगा। टेक
ब्राह्मण होके बेद न जाने,
मिथ्या जन्म गवाया ।
बिना खग के क्षत्री होइ हैं,
शूद्र ही राज चलावेगा।
बेटा मातु पिता नहि चीन्हें,
तरिया से नेह लगावेगा। 
सो तरिया स्वामी को न जाने,
आन पुरुष मन भावेगा। 
सती पती कोई बिरले हुई है,
सब दुखिया हो जावेगा। 

कहै कबीर सुनो भाई साधो,
राम नाम नहीं भावेगा। 

Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…