Home Uncategorized कबीर भजन मन समझावन-१२२

कबीर भजन मन समझावन-१२२

2 second read
0
0
29

कबीर भजन मन समझावन-१२२
मानत नहीं मन मोरा साधो ।

मानत नहीं मन मोरा रे।
बार बार में यह समझाऊ,
जग जीवन है थोरा रे ।
या देही का गर्व, न कीजै,
क्यकोटि सुगन्धित चमोरा रे।
बिना भक्ति तन काम ना आवे,
क्या हाथी क्या घोड़ा रे ।
जोरि २ बहुत बटोरा,
लाखों कोटि करोरा- रे!
दुनिया दुर्गति ओ चतुराई,
जनम गयो मर तोरा रे।
कबहु आन मिलो सतसंग,
सतगुरु मान तिहोरा रे ।
लेत उठाय परम भूमि गिर-२

ज्यो बालक बिन पीरा रे।

कहै कबीर चरण चित राखो,
ज्यों सूई में डोरा रे ।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

How to Check BUSY Updates

How to Check BUSY Updates Company > Check BUSY Updates Check BUSY Updates option provid…