Home Uncategorized कबीर दादरा मन की दवा- १०३

कबीर दादरा मन की दवा- १०३

2 second read
0
0
36
कबीर दादरा मन की दवा- १०३
कैसे समझाऊं में, न माने मेरी बात रे।
वह मन मूढ़ मधुर अमृत
तजि भटकि विष फल खात
इक मन पहुंथिर रहत न
कबहूं सटकि-सटकि चहुंदिशि जात जो नही
जो मैं रोक तनक कहूं राखो

पटकि-२ अति अकुलात

कहै कबीर सन्त मेटत हो
हटकि याकी सब उतपात
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • राग परजा-२५अब हम वह तो कुल उजियारी। टेकपांच पुत्र तो उदू के खाये, ननद खाइ गई चारी।पास परोस…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…