Home Satkatha Ank अनधिकारी राजा ! – Unauthorized king

अनधिकारी राजा ! – Unauthorized king

7 second read
0
0
61
अनाधिकारी राजा ! 
एक भिक्षुक अचानक राजा हो गया था । उस देश के संतानहीन नरेश ने घोषणा की थी कि उनकी मृत्यु के पश्चात् जो पहिला व्यक्ति नगरद्वार में प्रवेश करे, उसे सिंहासन दे दिया जाय । भाग्यवश नगरद्वार मे प्रवेश करने वाला पहिला व्यक्ति वह भिखारी था । मंत्रियो ने उसे राजतिलक कर दिया । 
wallpaper king | Hd dark wallpapers, Iphone wallpaper pattern ...
Unatuhorized King
भिक्षुक क्या जाने राज़ प्रबन्ध । राजा सेवक स्त्रच्छन्द व्यवहार करने लगे । अधीनस्थ सामन्तो ने कर देना बंद कर दिया । प्रजा उत्योडित होने लगी राज़ सेवकों द्वारा मर्जी मनमानी करने लगे । नरेश कुछ करता भी तो अनुष्णवहीन होने के कारण परिणाम उलटा निकलता । उसके विरुद्ध राज्य में असंतोष बढता जाता था । स्वयं वह अत्यन्त क्षुब्ध हो उठा था। 
घूमते हुए उसका एक पुराना मित्र उस नगर मेँ आया । राजा से उसने मिलने की इच्छा प्रकट की । एकान्त में राजा उससे मिला। मित्र ने कहा आपके सौभाग्य पर मैं बधाई देने आया हूँ।
राजा ने कहा-मेरे दुर्भाग्य पर रोओ और भगवान से प्रार्थना करो कि मैं इस विपत्ति से शीघ्र छूट जाऊँ। जब मैं भिक्षुक था तो भिक्षा में जो भी रूखी-सूखी रोटी मिलती थी उसे खाकर निक्षिन्त रहता था । परंतु आजकल तो अनेक चिन्ताओँ के कारण मैं सदा दुखी रहता हूँ। मुझें ठीक निद्रा तक नहीं आती।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Satkatha Ank

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…