Home Satkatha Ank मांस सस्ता या महँगा ? -Meat cheap or expensive?

मांस सस्ता या महँगा ? -Meat cheap or expensive?

22 second read
0
0
53
मांस सस्ता या महँगा ?
एक नरेश ने अपने दरबार में सामन्ती से पूछा…मांस सस्ता है या महँगा ? 
सामन्तो ने उत्तर दिया-सस्ता है । 
सामंतो की बात सुनकर राजकुमार ने कहा… पिताजी ! मांस महँगा है । 
नरेश ने पुत्र से  कहा…तुम अभी बालक हो, अनुभवहीन हो । सामन्तगण अनुभवी हैं । बात उनकी ही ठीक है । 
राजकुमार बोला यदि आप कुछ दिन राजसभा में न आयें तो मैं इस बात को सिद्ध कर दूँगा कि किसकी बात ठीक है । 
Red Meat - Health Benefits, Dangers, What is Red Meat
Meat Cheap or Expensive?
राजकुमार की बात राजा ने मान ली । दो-एक दिन बाद राजकुमार एक सामन्त के घर पहुँचे और बोले पिताजी बीमार हैँ । राज़वैद्य कहते हैँ कि किसी शूर सामन्त के हदय का मांस चाहिये । कृपा करके आप अपने हदय का दो तोला मांस दे दें । जो भी मूल्य चाहें, आपको दिया जायगा।
सामन्त ने राजकुमार को एक बडी रकम भेंट की और कहा-आप मुझ पर दया करे। किसी दूसरे सामन्त के पास पधारें । राजकुमार क्रमश: सभी सामन्तो के पास गये । सब ने उन्हें भारी भेंट देकर दूसरे के यहाँ जाने को कहा । राजकुमार ने भेंट मैं प्राप्त वह विशाल धन-राशि लाकर पिता के सम्मुख रख दी । सब बातें बता दीं पिता को । दूसरे दिन राजसभा में राजा आये । सामन्तो से उन्होने फिर पूछा…मांस सस्ता है या महँगा ? 
सामन्तो ने तथ्य समझ लिया । उन्होंने मस्तक झुका लिया । राजकुमार बोले…
स्वमांसं द्रुर्लभं लोके लक्षेनापि न लभ्यते। अल्पमूल्वेन रनध्येत मलं मरशरीरजम्।। 
पिताजी ! अपना मांस संसार में दुर्लभ है । कोई लाख रुपये में भी अपने शरीर का मांस देना नहीं चाहता। परंतु दूसरेके शरीर का मांस तो थोड़े मूल्य में ही मिलता है । 
अपने शरीर के समान ही दूसरों को भी उनका शरीर प्रिय है और उनके लिये उनका मांस वैसा ही बहुमूल्य है जैसे अपने लिये अपना मांस । इससे किसी प्राणी को हिंसा नहीं करनी चाहिये, यह राजकुमार का तात्पर्य अब सामत्तों को समझ में आया।
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Satkatha Ank

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…