Home mix गौतम बुद्ध ने क्यों कहा ‘हर व्यक्ति की 4 पत्नियां होनी चाहिए’? – गौतम बुद्ध के विचार -Thoughts of gautam buddha
mix

गौतम बुद्ध ने क्यों कहा ‘हर व्यक्ति की 4 पत्नियां होनी चाहिए’? – गौतम बुद्ध के विचार -Thoughts of gautam buddha

2 second read
0
0
126

गौतम बुद्ध ने क्यों कहा ‘हर व्यक्ति की 4 पत्नियां होनी चाहिए’?

गौतम बुद्ध के विचार

lord buddha se judhi adbhut kahani

गौतम बुद्ध, विश्व के प्राचीनतम धर्मों में से एक बौद्ध धर्म के प्रवर्तक थे। उनका जन्म तो हिन्दू धर्म के क्षत्रिय कुल में हुआ, लेकिन आज उन्हें बौद्ध धर्म के अनुयायी के रूप में ही जाना जाता है।

2 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

गौतम बुद्ध के विचार

गौतम बुद्ध के विचारों एवं उपदेशों को लोग सिर-माथे पर बिठाते हैं, उनका पालन करते हैं, लेकिन उनके जिस एक विचार के बारे में हम यहां बताने जा रहे हैं, उसे जान वाकई आप चकित होने वाले हैं।

3 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

गौतम बुद्ध के विचार

गौतम बुद्ध के अनुसार किसी व्यक्ति की एक नहीं, दो नहीं, बल्कि 4 पत्नियां होनी चाहिए। जी हां…. यह स्वयं गौतम बुद्ध का ही कथन है। लेकिन उन्होंने ऐसा क्यूं कहा और क्या कारण है इसके पीछे, इसका उत्तर एक सच्ची कहानी में छिपा है। जिसकी सहारा लेते हुए ही गौतम बुद्ध ने ऐसी बात कही थी।

4 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

गौतम बुद्ध द्वारा सुनाई गई एक कहानी

आगम सूत्र में दर्ज यह कहानी कुछ इस प्रकार है – एक समय की बात है, एक व्यक्ति था जिसकी 4 पत्नियां थीं। यह उस दौर की बात है जब भारत में एक पुरुष को एक से अधिक पत्नियां रखने की इजाजत थी। उसका जीवन काफी अच्छा चल रहा था, लेकिन परेशानियां भी अधिक दूर नहीं थीं।
5 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

गौतम बुद्ध द्वारा सुनाई गई एक कहानी

वह काफी बीमार पड़ गया, उसकी बीमारी ठीक ना होने की कगार पर आ गई थी। अब उसे समझ आ गया था कि उसकी मृत्यु का समय बेहद नजदीक है। इस बात का आभास होने पर वह काफी अकेला और उदास रहने लगा।
6 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

पहली पत्नी से किया प्रश्न

लेकिन तब उसने हिम्मत करके अपनी पहली पत्नी से एक प्रश्न किया, “प्रिय, मेरी मृत्यु काफी नजदीक है, बहुत जल्द मैं अपना शरीर त्यागकर संसार से मुक्त हो जाऊंगा। लेकिन मैं अकेले ही यह सफर तय नहीं करना चाहता। मैंने हमेशा तुमसे प्यार किया और अब भी करता हूं, क्या तुम मृत्यु के बाद मेरे साथ चलोगी, जहां भी मैं जाऊं?”
7 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

पहली पत्नी से किया प्रश्न

इस बात को सुनकर कुछ क्षण के लिए उस व्यक्ति की पत्नी खामोश हो गई। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या कहे। लेकिन कुछ हिम्मत जुटाते हुए उसने अपने पति के प्रश्न का उत्तर दिया।
8 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

पहली पत्नी से किया प्रश्न

पहली पत्नी ने कहा – “स्वामी, मैं जानती हूं कि आप मुझसे बेहद प्रेम करते हैं। मैं भी आपसे तहे दिल से मोहब्बत करती हूं, लेकिन अब तुम्हारी मृत्यु के साथ हमारे अलग होने का समय आ गया।“ ऐसा कहते हुए पहली पत्नी ने अपने पति से विदा ली।
9 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

दूसरी पत्नी से किया प्रश्न

अब उदास पति अपनी दूसरी पत्नी के पास पहुंचा, उससे भी उसने यही सवाल किया और कहा, “क्या तुम मृत्यु के बाद मेरे साथ चलोगी?”
10 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

दूसरी पत्नी से किया प्रश्न

उस व्यक्ति की दूसरी पत्नी ने बेहद विनम्र तरीके से अपने पति के इस सवाल का जवाब दिया और कहा, “जब आपकी पहली पत्नी ने ही आपके साथ जाने से इनकार कर दिया, तो मैं आपके साथ कैसे जा सकती हूं?” ऐसा कहते हुए वह वहां से चली गई।
11 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

तीसरी पत्नी को बुलाया

अब वह व्यक्ति बेहद उदास होकर वहां से चला गया। मौत के बेहद करीब खुद को पाकर उसने अपनी तीसरी पत्नी को बुलाया और वही प्रश्न किया जो उसने अपनी पहली और दूसरी पत्नी से भी किया था। लेकिन उससे भी उसे इनकार के सिवा और कुछ हासिल ना हुआ।
12 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

फिर किया सवाल

अब उसने अपनी चौथी पत्नी को बुलाया। अब तक वह सारी उम्मीदें खो चुका था, इसलिए अपनी चौथी पत्नी से वही सवाल करने की हिम्मत ना कर सका। वह चुपचाप अपनी चौथी पत्नी को देखता रहा, लेकिन फिर कुछ पल के बाद आखिरकार उसने वही सवाल किया।
13 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

हिम्मत जुटाई

“क्या मरने के बाद मैं जहां जाऊंगा, वहां तुम मेरे साथ चलोगी? क्या तुम मरने के बाद भी मेरा साथ दोगी?” इस सवाल को चौथी बार दोहराते हुए उस व्यक्ति की आवाज में बेहद हिचकिचाहट थी। लेकिन इस बार उसकी अपेक्षाएं काफी कम हो गई थीं।
14 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

पत्नी ने दिया जवाब

किंतु तभी उसकी पत्नी ने जवाब दिया, “स्वामी, मैं आपके साथ अवश्य चलूंगी। आप जहां मुझे लेकर जाना चाहें, मैं आपका साथ दूंगी। मैं स्वयं भी आपसे दूर नहीं रह सकती, इसलिए आप जहां भी जा रहे हैं मुझे साथ ही लेकर जाएं।“
15 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

गौतम बुद्ध क्या कहना चाहते थे

इस कहानी को सुनाते हुए गौतम बुद्ध ने अंत में कहा कि हर पुरुष एवं महिला के पास 4 पत्नियां एवं 4 पति, होने चाहिए। ताकि उसे भी चौथी बार में हां सुनने को मिल सके। किंतु कहानी में बताई गई 4 पत्नियों को गौतम बुद्ध ने जीवन के एक खास पहलू के साथ जोड़ा है, क्या है वह आगे जानिए..
16 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

मृत्यु का रहस्य

गौतम बुद्ध के अनुसार कहानी में पहली पत्नी हमारा शरीर है। जिसे हम कभी भी अपनी मृत्यु के बाद अपने साथ लेकर नहीं जा सकते। मनुष्य कितना ही प्रयत्न क्यों ना कर ले, लेकिन उसका शरीर मृत्यु के बाद उसके साथ नहीं जाता।
17 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

मृत्यु का रहस्य

इस शरीर को या तो जला दिया जाता है या फिर दफ्न कर दिया जाता है। शरीर मानव की मृत्यु के बाद नष्ट कर दिया जाता है। इसलिए मरने के बाद हम ‘पहली पत्नी’ को दर्शाता शरीर साथ लेकर नहीं जा सकते।
18 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

मृत्यु का रहस्य

दूसरी पत्नी है हमारा ‘भाग्य’… मृत्यु के बाद कैसा भाग्य? मृत्यु ही तो अंत है, इसके बाद हमें क्या मिलेगा और क्या नहीं यह हमारे कर्मों पर निर्भर करता है। लेकिन मृत्यु के बाद हमें जो मिलता है वह एक नई शुरुआत ही है। इसलिए हम अपने भाग्य को कभी साथ नहीं ले जा सकते।
19 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

मृत्यु का रहस्य

कहानी में तीसरी पत्नी से तात्पर्य है ‘रिश्ते’। महाभारत में श्रीकृष्ण ने भी कहा था कि मनुष्य की मृत्यु के बाद उसकी आत्मा का किसी से भी संबंध नहीं रहता। आत्मा किसी की नहीं होती, जब तक उसे नया शरीर ना मिल जाए, उसका कोई सगा-संबंधी नहीं होता।
20 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

मृत्यु का रहस्य

इस बात को श्रीकृष्ण ने अर्जुन को समझाया था, जब अपने पुत्र अभिमन्यु की मृत्यु के ग़म में उसने युद्ध लड़ने से इनकार कर दिया था। तब श्रीकृष्ण ने उसे स्वर्ग में भेजा, जहां उसने अभिमन्यु को देखा।
21 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

श्रीकृष्ण समझाते हैं…

पुत्र को आंखों के सामने देखते ही अर्जुन अति प्रसन्न हो गया और गले से लगा लिया। लेकिन जवाब में अभिमन्यु ने अर्जुन को पीछे धक्का मारा और सवाल किया कि ‘तुम कौन हो’?
22 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

श्रीकृष्ण समझाते हैं…

तब श्रीकृष्ण ने समझाया कि वह अभिमन्यु नहीं, मात्र एक आत्मा है। जिसका केवल तब तक तुम्हारे साथ रिश्ता था, जब तक वह तुम्हारे पुत्र अभिमन्यु के शरीर में थी। अब नया शरीर मिलने तक यह आत्मा किसी की नहीं कहलाएगी।
23 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

अब आखिरी पत्नी

गौतम बुद्ध की कहानी के अनुसार तीसरी पत्नी जो कि व्यक्ति के रिश्ते को दर्शाती है, वह उसके साथ नहीं जा सकती। अब अगली बारी है चौथी पत्नी की, जो आखिरकार साथ जाने के लिए तैयार हो गई।
24 / 24lord buddha se judhi adbhut kahani

यही जाती है साथ में

गौतम बुद्ध के अनुसार चौथी पत्नी है हमारे ‘कर्म’। यह एकमात्र ऐसी चीज है जो मृत्यु के बाद हमारे साथ जाती है। हमारे पाप-पुण्य का लेखा जोखा दिलाती है। मृत्यु के बाद हमारी आत्मा को स्वर्ग प्राप्त होगा, नर्क प्राप्त होगा या फिर नया जीवन, यह कर्मों पर ही निर्भर करता है।

Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In mix

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…