Home Satkatha Ank परिवर्तनशील के लिये सुख-दुःख क्या मानना-What to consider happiness and sorrow for change

परिवर्तनशील के लिये सुख-दुःख क्या मानना-What to consider happiness and sorrow for change

9 second read
0
0
80
Parivartan sheel ke liye dukh sukh kya
परिवर्तनशील के लिये सुख-दुःख क्या मानना
एक सम्पत्र घर के लड़के को डाकुओ ने पकड  लिया और अरब के एक निर्दय व्यक्ति के हाथ बेच  दिया । निष्ठुर अरब उस लड़के से बहुत अधिक परिश्रम लेता था और फिर भी उसे झिड़कता और पीटताँ रहता था । पेटभर भोजन भी उस लड़के को नहीं  मिलता था।  एक व्यापारी घूमता हुआ उस नगर में पहुँचा । वह
लड़के को पहिचानता था । उसने लड़के से पूछा…’आजकल तुम्हें वहुत क्लेश है ?
लडका बोला…”जो पहले नहीं थी और आगे भी नहीं रहेगी, उस परिवर्तनशील अवस्था के लिये क्लेश क्या मानना ।
How to Lose Sadness and Find Happiness | Psychology Today
What to consider happiness and sorrow for change
वर्ष बीतते गये । अरब बृद्ध हुआ, मर गया । अरव की स्त्री और अबोध बालक निराधार हो गये । उनका वह गुलाम अब युवक हो गया था । मरते समय अरब ने उसे अपने दासत्व से मुक्त कर दिया था । वही अब स्वयं उपार्जन करके अरब की पत्नी और पुत्र का भी भरण-पोषण करता था । वह व्यापारी फिर उस नगर में आया और युवक से उसने पूछा- अब क्या दशा है ?
युवक बोला-जो पहले नहीं थी और आगे भी नहीं रहेगी । उस परिवर्तनशील अवस्था के लिये सुख क्या मानना और दुख भी क्यों मानना ।
युवक उन्नति करता गया । वह अपने कबीले का सरदार हुआ और धीरे धीरे उस प्रदेश का राजा हो गया । व्यापारी फिर उस नगर में आया तो राजा से मिले बिना जा नहीं सका । मिलने पर उसने कहा- श्रीमान्! आपके इस बैभव के लिये धन्यवाद ।

राजा ने शान्त स्थिर भाव से कहा- भाई ! जो पहले नहीं थी और आगे भी नहीं रहेगी, उस परिवर्तनशील अवस्था के लिये उल्लास क्या और खेद भी क्यों ।’
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Satkatha Ank

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…