Home Satkatha Ank राम-नाम की अलौकिक महिमा ( वेश्या का उद्धार ) – Super Natural glory of Ram

राम-नाम की अलौकिक महिमा ( वेश्या का उद्धार ) – Super Natural glory of Ram

2 second read
0
0
210
राम-नाम  की अलौकिक महिमा
( वेश्या का उद्धार ) 

किसी शहर में एक वेश्या थी। उसका नाम था जीवन्ति। उसे कोई संतान न थी। इसलिये उसने एक (सुग्गे का बच्चा खरीद लिया और पुत्रवत्‌ उसे पालने लग गयी। वह सुग्गे को ‘राम राम राम राम” पढ़ाने लगी। अभ्यास से सुग्गा ‘राम राम” बोलना सीख गया और सुंदर स्वरों से वह प्राय: सर्वदा “राम राम’ ही कूजता रहता। एक दिन दैवयोग से दोनों के ही प्राण छूट गये। इनको लेने के लिये यमदूत पहुचे। इधर विष्णु दूत भी आये। विष्णुदूतों ने भगवन्नाम का माहात्म्य बतलाकर यमदूतो से उन दोनों को छोड़ देने का आग्रह किया।

d4mnk20 26971318 a6e4 4204 ab61 ebeb0da2c1a6

यमदूतो ने उनके दीर्घ और विशाल पाप समुदाय तथा यमराज की आज्ञा बतलाकर अपनी लाचारी व्यक्त की। अंत में युद्ध की नौबत आ पहुंची। युद्ध में यमदूतों के सेनानायक चण्ड को गहरी मार पड़ी। यमदूत उन्हें लेकर हाहाकार करते हुए भाग चले।

सारी बात॑ यमराज को विदित हुई। उन्होंने कहा–” दूतो! उन्होंने मरते समय यदि ‘राम’ इन दो अक्षरों का उच्चारण किया है तो उन्हें मुझसे कोई भय नहीं रह गया। संसार में ऐसा कोई पाप नहीं है, जिसका राम नाम के स्मरण से नाश न हो जाय। राम नाम का जप करने वाले कभी विषाद या क्लेश को नहीं प्राप्त होते। इसलिये अब ऐसे लोगों को भूलकर भी यहां लाने की चेष्टा न करना। मेरा उनको प्रणाम है तथा मैं उनके अधीन हू।’

इधर विष्णुदूत हर्ष में भरकर जयध्वनि के साथ उस सुग्गे तथा गणिका को विमान में बिठलाकर विष्णुलोक को ले गये।

Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Satkatha Ank

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…