Home Gazal Poetry Dr. Kumar Vishwas – Mujh mein kya hai siva tumhare? (डॉ. कुमार विशवास – मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे ?)

Dr. Kumar Vishwas – Mujh mein kya hai siva tumhare? (डॉ. कुमार विशवास – मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे ?)

1 min read
0
0
102
Kumar vishwas 1

Dr. Kumar Vishwas – Mujh mein kya hai siva tumhare? (डॉ. कुमार विशवास – मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे ?)

Dr. Kumar Vishwas - Mujh mein kya hai siva tumhare ?

Kumar Vishwas
*****
Mujh mein kya hai siva tumhare ?
T V waale poochh rahe hai,
Kya chhodoge naye saal mein ?
Udhar suna hai America mein,
Aesa kuchh riwaaz hai shaayad
Naye saal mein khud hi khud kuchh
Apne mein se kam karne ka
Main kya chhodu samajh nahi.n paaya hoo.n ab tak,
Mujh mein kya hai siva tumhare ?
Aur tumhe kam kar doo.n to phir
Kaha.n bachoo.nga naye saal mein
Dr. Kumar Vishwas
<—-Main tumhare liye zindgi bhar daha     Is se pahle ki saza mujh ko mukarrar ho jaye—->
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे ?
टी वी वाले पूछ रहे हैं ,
क्या छोड़ोगे नए साल में ?
उधर सुना है अमरीका में ,
ऐसा कुछ रिवाज़ है शायद ,
नए साल में खुद ही खुद कुछ
अपने में से कम करने का ,
मैं क्या छोडू समझ नहीं पाया हूँ अब तक ,
मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे ?
और तुम्हें कम कर दूँ तो फिर
कहाँ बचूँगा नए साल में ……?
डॉ. कुमार विशवास
<—-मैं तुम्हारे लिए, जि़न्दगी भर दहा       इस से पहले कि सजा मुझ को मुक़र्रर हो जाये —->
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
Load More In Gazal Poetry

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…