Home Others परिवर्तन महेश भटनागर कविता – Change Mahesh Bhatnagar poem in hindi

परिवर्तन महेश भटनागर कविता – Change Mahesh Bhatnagar poem in hindi

4 second read
0
0
71

परिवर्तन [कविता]
बदली छायी मौसम कितना बदल गया!
सब ओर कि दिखता नया-नया!

सपना – जो देखा था साकार हुआ,
अपने जीवन पर अपनी किस्मत पर
अपना अधिकार हुआ।

समता का बोया था
जो बीज-मंत्र पनपा, छतनार हुआ।
सामाजिक-आर्थिक नयी व्यवस्था का आधार बना।

शोषित-पीड़ित जन-जन जागा,
नवयुग का छविकार बना।

साम्य-भाव के नारों से
नभ-मंडल दहल गया!
मौसम कितना बदल गया!
==================
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • Krna Fakiri Phir Kya Dil Giri – Lyrics In Hindi

    **** करना फकीरी फिर क्या दिलगिरी सदा मगन में रहना जी कोई दिन हाथी न कोई दिन घोडा कोई दिन प…
  • 101 of the Best Classic Hindi Films

    Bollywood This article features 101 classic Bollywood movies that I know we all love. Ther…
  • अमर सूक्तियां-Immortals Quotes

    अमर सूक्तियां संसार के अनेकों महापुरुषों ने अनेक महावचन कहे हैं. कुछ मैं प्रस्तुत कर रहा ह…
Load More In Others

Leave a Reply

Check Also

What is Account Master & How to Create Modify and Delete

What is Account Master & How to Create Modify and Delete Administration > Masters &…