0 second read
0
0
18
राग झंझोटी-२८
सुतु ब्रह्म जन्म गंववसे हरि भक्ति बिना टेक
का धे
अंगोछा धारे,
तिलक चढ़ाए चन्दना।
अग
कान पकड़ि मूढ़ लिए लटकाई,
नेवाय करे रटना,
सुरा कटाय मांगे मांगे दक्षिणा।
ब्राह्मण न आवत जैसे आवत कसाई ।

Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • Kabir Bhajan – raag jhanjhoti-shabd-2

    राग झंझोटी : २बाल्मीकि तुलसी से कहि गये,एक दिन कलियुग आयेगा । टेकब्राह्मण होके वेद न जाने,…
  • राग बिलाप-२७अब मैं भूली गुरु तोहार बतिया,डगर बताब मोहि दीजै न हो। टेकमानुष तन का पाय के रे…
  • शब्द-२६ जो लिखवे अधम को ज्ञान। टेकसाधु संगति कबहु के कीन्हा,दया धरम कबहू न कीन्हा,करजा काढ…
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

How to Restore Data in Busy-21?

How to Restore Data in Busy-21? Learn the essential steps for restore data in Busy-21. Saf…