Home Anmol Kahaniya जैसे को तैसा

जैसे को तैसा

0 second read
0
0
79

Community-verified icon

जैसे को तैसा 

एक फल विक्रेता, एक हाथी को जब वह नदी पर पानी पीने को जाया करता था, उसे खाने को कुछ फल , दिया करता था। उसके प्रेम के कारण हाथी अपनी सूंड को फल लेने के लिए बढ़ा दिया करता था।
 
एक दिन हाथी ने फल के लिए सूंड बढ़ाई तो फल विक्रेता ने फल देने के बजाय उसकी सूंड में सुई चुभा दी। हाथी को बड़ी तकलीफ महसूस हुई।
 
हाथी नदी पर गया और उसने अपनी सूंड में नदी का गन्दा पानी भर लिया और फल वाले की दुकान पर आकर उसने फलों पर गन्दा पानी सूंड से उडेल दिया। 
 
कहावत है – हनते को हनिये, पाप दोष न गिनिये। 
 
 
Load More Related Articles
Load More By amitgupta
  • Images

    तृष्णा

    तृष्णा एक सन्यासी जंगल में कुटी बनाकर रहता था। उसकी कुटी में एक चूहा भी रहने लगा था। साधु …
  • Istock 152536106 1024x705

    मृग के पैर में चक्की

    मृग के पैर में चतकी  रात के समय एक राजा हाथी पर बैठकर एक गाँव के पास से निकलो। उस समय गांव…
  • Pearl 88

    मोती की खोज

    मोती की खोज एक दिन दरबार में बीरबल का अपानवायु ( पाद ) निकल गया। इस पर सभी दर्बारी हँसने ल…
Load More In Anmol Kahaniya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

बुद्ध को हम समग्रता में नहीं समझ सके – We could not understand Buddha in totality

बुद्ध को हम समग्रता में नहीं समझ सके – We could not understand Buddha in totality Un…