Home Bio-Graphy “युसैन बोल्ट: एक जीवन गाथा” (Usain Bolt: Ek Jeevan Gatha)

“युसैन बोल्ट: एक जीवन गाथा” (Usain Bolt: Ek Jeevan Gatha)

1 second read
0
0
44

उसैन बोल्ट का जन्म 21 अगस्त 1986 को शेरवुड कंटेंट, ट्रेलानी, जमैका में हुआ था। उनका पूरा नाम उसैन सेंट लियो बोल्ट है। उनके पिता का नाम वेलेस्ली बोल्ट और माता का नाम जेनिफर बोल्ट है। बोल्ट के माता-पिता का एक छोटा सा किराना स्टोर था। बोल्ट का बचपन बहुत ही सामान्य और खेल-कूद से भरा हुआ था। वे बचपन से ही क्रिकेट और फुटबॉल के शौकीन थे, लेकिन उनकी गति ने उन्हें एथलेटिक्स की दुनिया में खींच लिया।

बोल्ट ने अपनी शिक्षा विलियम निब मेमोरियल हाई स्कूल में पूरी की, जहां उनके कोच पाब्लो मैकनील और ड्वेन बैरेट ने उनकी तेज दौड़ने की क्षमता को पहचाना और उन्हें एथलेटिक्स की ओर प्रोत्साहित किया। 12 साल की उम्र तक, बोल्ट ने 100 मीटर दौड़ को मात्र 11.2 सेकंड में पूरा कर लिया था, जो उनकी असाधारण प्रतिभा का संकेत था।

navbharat times

बोल्ट ने 2001 में कैरिबियन क्षेत्रीय प्रतियोगिता में अपने पहले अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में हिस्सा लिया और 200 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता। इसके बाद, 2002 विश्व जूनियर चैंपियनशिप में, उन्होंने 200 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर सबको चौंका दिया। यह उनके करियर का महत्वपूर्ण मोड़ था, जिसने उन्हें एक उभरते हुए स्टार के रूप में पहचान दिलाई।

2004 में, बोल्ट ने ओलंपिक खेलों में अपना पहला हिस्सा लिया, लेकिन चोट के कारण वे फाइनल में नहीं पहुंच सके। हालांकि, 2007 में, उन्होंने ओसाका में आयोजित विश्व चैंपियनशिप में 200 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता और 4×100 मीटर रिले में स्वर्ण पदक प्राप्त किया। इस सफलता ने उन्हें विश्व स्तर पर एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बना दिया।

2008 बीजिंग ओलंपिक में, बोल्ट ने 100 मीटर और 200 मीटर दोनों में स्वर्ण पदक जीते, और दोनों में विश्व रिकॉर्ड बनाए। उन्होंने 4×100 मीटर रिले में भी स्वर्ण पदक जीता, लेकिन बाद में जमैका की टीम को डोपिंग उल्लंघन के कारण पदक से वंचित कर दिया गया। फिर भी, बोल्ट की इस ओलंपिक में प्रदर्शन ने उन्हें अंतरराष्ट्रीय सुपरस्टार बना दिया।

2012 लंदन ओलंपिक में, बोल्ट ने फिर से 100 मीटर, 200 मीटर और 4×100 मीटर रिले में स्वर्ण पदक जीते, और अपना प्रभुत्व बनाए रखा। उन्होंने अपने रिकॉर्ड को तोड़ा और साबित किया कि वे सबसे तेज इंसान हैं। 2016 रियो ओलंपिक में, बोल्ट ने लगातार तीसरे ओलंपिक में 100 मीटर, 200 मीटर और 4×100 मीटर रिले में स्वर्ण पदक जीतकर अपनी प्रतिष्ठा को और मजबूत किया।

बोल्ट की असाधारण गति, लंबी ऊंचाई (6 फीट 5 इंच), और विशिष्ट दौड़ने की शैली ने उन्हें एक अद्वितीय एथलीट बना दिया। उन्होंने अपने करियर के दौरान कुल 8 ओलंपिक स्वर्ण पदक और 11 विश्व चैंपियनशिप स्वर्ण पदक जीते। उनका 100 मीटर का विश्व रिकॉर्ड 9.58 सेकंड और 200 मीटर का विश्व रिकॉर्ड 19.19 सेकंड है, जो अब तक नहीं तोड़ा गया है।

2017 में, बोल्ट ने एथलेटिक्स से संन्यास ले लिया। उनके बाद के वर्षों में, वे एक फुटबॉल खिलाड़ी के रूप में अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश करते रहे, लेकिन उन्होंने अंततः एथलेटिक्स से जुड़ी परियोजनाओं और व्यवसायों में ध्यान केंद्रित किया। वे प्यूमा, गेटोरेड, और अन्य प्रमुख ब्रांडों के साथ अपने व्यापारिक संबंधों के लिए भी जाने जाते हैं।

बोल्ट की व्यक्तिगत जिंदगी में भी कई महत्वपूर्ण पहलू हैं। वे अपने लंबे समय के साथी केसी बेनेट के साथ रिश्ते में हैं, और दोनों के तीन बच्चे हैं – ओलंपिया लाइटनिंग बोल्ट, और जुड़वां संत लेओ बोल्ट और थंडर बोल्ट। बोल्ट अपने परिवार के साथ समय बिताना पसंद करते हैं और अक्सर अपने बच्चों के साथ तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर साझा करते हैं।

उसैन बोल्ट का जीवन संघर्ष, दृढ़ संकल्प, और महानता की कहानी है। उनकी यात्रा हमें सिखाती है कि अगर हम अपने सपनों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत और समर्पण करते हैं, तो कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं होता। उनकी अद्वितीय गति, अदम्य आत्मविश्वास, और अद्वितीय उपलब्धियों ने उन्हें दुनिया के सबसे महान एथलीटों में से एक बना दिया है। बोल्ट की विरासत और उनका प्रभाव आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणास्त्रोत बना रहेगा।

Load More Related Articles
Load More By Niti Aggarwal
Load More In Bio-Graphy

Leave a Reply

Check Also

“टोनी मॉरिसन: एक जीवन गाथा”(Toni Morrison: Ek Jeevan Gatha)

टोनी मॉरिसन का जन्म 18 फरवरी 1931 को लॉरेन, ओहायो, अमेरिका में हुआ था। उनका असली नाम क्लो …